LATEST TRENDING TOPICS:
तनाव और चिंता से मुक्ति पाने के उपाय वैजाइनल डिस्चार्ज के प्राकृतिक घरेलू उपचार
Romantic Gifts Ideas to impress a girl हेयर फॉल से कैसे मुक्ति पाए: घरेलु उपचार
HOW TO STOP PREGNANCY? Know HOME REMEDIES दाँतो को सफ़ेद कैसे बनाये?
लड़कियों के MOOD SWINGS कैसे कण्ट्रोल करे? जानिये योगा के रामबाण फायदे
Public Health Education Health care insurance & Coverage

$€x Power Kaise Badhaye natural home remedies मर्दाना ताकत के उपाय: देसी नुस्खे

Sex Power Kaise Badhaye natural home remedies मर्दाना ताकत के उपाय: देसी नुस्खे:

सेक्स ज़िंदगी का बहुत अहम हिस्सा है | एक विवाहित जीवन में सेक्स को आनदपूर्ण बनाना आव्यशक है | जिसके लिए सेक्स पावर स्वस्थ होना बहुत जरुरी है | लेकिन आजकल के दैनिक जीवन में सबसे बड़ी समस्या बन गया है की सेक्स पावर सेक्स पावर कैसे बढ़ाएं ($€x power kaise badhaye)|

अटल सत्य सनातन ब्राह्मण हिंदू धर्म के अनुसार: हिंदू ऋषियों मुनियों द्वारा रचित जीवन यापन करने के नियमों का पालन करने से माता पिता का सम्मान, परमेश्वर की नित्य पूजा, जप-तप, तपस्या, प्रार्थना, ध्यान साधना, योग, प्राणायाम, इत्यादि प्रक्रियाओं का अनुसरण करने से नर में पौरुषत्व में अपराजेय, अभूतपूर्व वृद्धि होती है । $€x Power Kaise Badhaye

$€x Power Kaise Badhaye

शाकाहार भोज्य पदार्थों का सेवन करने से शारीरिक क्षमता व लिङ्ग क्षमता वर्धन में सहायता मिलती है । इसमें आप दाल, अनाज, दूध तथा दूध से बने पदार्थ ले सकते हैं। जिसकी मदद से आप Sex Power Badha skte hai. लगभग सभी शोधों में भी प्रमाणित हो चुका है कि मांसाहारी व्यक्ति की तुलना में हिंदू शाकाहारी व्यक्ति, दीर्घायु जीवन जीते एवं अधिक सक्षम होता है।

महत्त्वपूर्ण तथ्य:

क्षमता में वृद्धि करने के लिए प्रोटीन तथा विटामिन बहुत मददगार साबित होते हैं। इसीलिए आपको अपने भोजन में प्रोटीनयुक्त खाद्य पदार्थों को लेना चाहिए जिससे शरीर में स्फूर्ति भी आएगी। कोल्ड ड्रिंक्स, चॉकलेट, फ़ास्ट फ़ूड, पिज़्ज़ा, बर्गर एंव चाऊमीन, मैगी नूडल्स, मोमोस, घर से बाहर फ्राइड वस्तुओं इत्यादि का सेवन नियमित रूप से करने से शारीरिक ऊर्जा में कमी आने लगती है। ऐसे में इन उपभोज्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए।

इस बात पर ध्यान दें की ये सभी ऐसे प्रचलित नुस्खे हें, जो हम पुराने समय से देखते, सुनते आ रहे हैं। वैसे तो हर प्रकार की समस्या के सही समाधान के लिए डॉक्टर के पास जाने में ही समझदारी है, पर अगर आप इन उपायों को आज़माना चाहते हैं तो पहले सोच समझ लें।

प्रत्येक नौजवान के एक ही सोच, मात्र लक्ष्य अथवा कहें कि एकमात्र प्रयास के रूप में रहता है कि वह कैसे सुरूप (कामाकर्षक) (Handsome) दिखे, कैसे बलिष्ठ (Brawny) बने जो उसे पौरुष के रूप में प्रस्तुत करता है । व्यक्ति की आयु कोई भी हो, प्रत्येक जन २१ वर्ष हो, ४० वर्ष हो अथवा ६० वर्ष से ऊपर हो युवावस्था में ही बने रहना चाहता है ।

$€x Power Kaise Badhaye के उपाय

प्रकृति का नियम है की मनुष्य की आयु में वृद्धि होने के साथ उसकी काय में नित्य परिवर्तन होता है, उसकी शक्ति का निरंतर ह्रास (क्षय) होता है, जिसके कारण, व्यक्ति में उत्साह में अवनति (कमी) होना स्वाभाविक है । मनुष्य जीवनपर्यन्त ऊर्जावान तथा स्वस्थ बने रहने की लिए स्वयं में पौरुष शक्ति का वर्धन करने के लिए प्रयासरत रहता है ।

समय में शीघ्र परिवर्तन होने के साथ जीवन की दौड़भाग में उचित पौष्टिक आहार के अभाव में फ़ास्ट फ़ूड, स्टेल जंक फ़ूड के कारण मानसिक तनाव, शारीरिक क्लान्त, पेशेवर लोगों के कार्य दबाव, लाइव-इन रिलेशनशिप, गे जेंडर के युवाओं का पारिवारिक संबंधों सामंजस्य के अभाव में, जीवन में बहुत कुछ प्राप्त करने के लिए बढ़ते हुए अनावश्यक चुनौतियां इत्यादि कई अन्य कारण संबंधों में असंतुलन, स्वस्थ्य में ह्रास का कारण बन चुके हैं । यह अत्यधिक उत्कण्ठा के कारण तथ्य हैं । परिणामस्वरूप, ऐसे तथ्यात्मक कारण के कारण अधिक युवकों तथा युवतियों को अपर्याप्त आहार, अनुचित ख़ुराक, इंटरनेट, टेलीविज़न विज्ञापनों के द्वारा प्रचार किए जाने वाले अनअपेक्षित परिपूरक खाद्य लेने, यहाँ तक कि अवांछनीय शल्य चिकत्सा की ओर प्रवृत्त कर रहे हैं। यहाँ तक कि, पेशेवर चिकित्सक के बिना नियत (Un-Prescribed) शक्तिवर्धक दवाइयां तथा अपौष्टिक खाद्य लेने के कारण युवक युवतियां स्वस्थ्य जीवन के स्थान में बदतर जीवन जीने की दिशा में अग्रसर होते जा रहे हैं ।

जीवन में किशोर अथवा युवकों का सुरूप तथा युवतियों का सुरूपा बनने अथवा बने रहने के लिए कुछ सहज किन्तु कठिन उपाय करने चाहिए जो शांत, सरल व दीर्घायु जीवन यापन करने के अवश्यंभावी हैं: $€x Power Kaise Badhaye

  • जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाना
  • समय पर शयन करना,
  • काया से सम्बंधित विभिन्न नियत योग-अभ्यास
  • उचित आहार
  • सादगी भरा जीवन शुद्ध, अच्छे विचार
  • व अन्य प्रवृतियां ।

वर्तमान समय में युवक शीघ्र धातु दुर्बलता, शीघ्र-पतन, शीघ्र-स्खलन, नपुंसकता, धातु का गिरना, वीर्य विकृति एवं कमजोर उत्थान, तथा युवतियां शीघ्र-पतन के शिकार बनते जा रहे हैं; इन कारकों के पीछे कुछ एक उत्तरदायी कारण निम्नलिखित हैं:

शीघ्र-स्खलन के कुछेक मुख्य कारण (shighrapatan ke karan)

०१) अपौष्टिक खाद्य
०२) मद (नशा) प्रवृति
०३) अकारण तनावयुक्त जीवन अत्यधिक व्यग्र करने वाला भाव
०४) मूक विचारों से ग्रसित जीवन
०५) जान-नाग विकृति
०६) अवांछनीय दवा लेने के साइड-इफेक्ट्स
०७) धातु विकार
०८) शारीरिक दुर्बलता
०९) शरीर में हॉर्मोन (अंतःस्राव) की कमी
१०) नए मित्रों के साथ परिवार से दूर सह-वास (लिव-इन रिलेशनशिप्स)
११) अनावश्यक यौन सम्बन्ध बनाना, व आनंद लेना
१२) अश्लील मूवीज देखना
१३) निर्लज्ज साहित्य, अवांछनीय पुस्तक वस्तुओं का पढ़ना

शीघ्र-स्खलन व नपुंसकता के उपचार (shighrapatan ki medicine & Ilaj)

मनीषी हिन्दू ऋषियों ने शीघ्र-स्खलन व नपुंसकता के उपचार हेतु निर्दिष्ट औषधियों के सेवन व उपाय करने के सन्दर्भ में निम्न औषधि योग बताया है:

अश्वगंधा, शतावरी, मुसली, शिलाजीत कौचा, शुद्ध कौचा, अख्खल हरो, गोखरू, वन्य भस्म, कर्पूर, अबरक व भस्म का योग करने से प्रमाणित वैद्य, व पेशेवर चिकित्सक द्वारा नियत मार्गदर्शन, इनसे निर्मित औषधि ग्रहण करें ।

यदि कोई भी युवक किसी भी प्रकार पौरुष दौर्बल्य (मर्दाना कमज़ोरी) जैसे: धातु दुर्बलता, शीघ्र स्खलन, नपुंसकता, धातु का गिरना, वीर्य विकृति एवं कमजोर उत्थान से ग्रसित है तो पौरुष शक्ति व ऊर्जा वर्धन के उपाय में कुछ अद्वितीय योग जिनका निर्माण अपने ग्रहों में किया जा सकता है, कर सकते है एवं अपनी खोयी हुई शक्ति एवं स्वास्थ्य को पुनः प्राप्त कर सकते है।

पौरुष शक्ति बढाने के लिए धातु दौर्बल्य नाशक योग

धातु दौर्बल्य नाशक योग बनाने के लिए हमें निम्न औषधियों की आवश्यकता होती है |

  • गुडूची (गिलोय) = 60 ग्राम
  • अश्वगंधा = 60 ग्राम
  • शतावरी = 60 ग्राम
  • विदारीकन्द = 60 ग्राम
  • सफ़ेद मुसली = 60 ग्राम
  • गौ का घृत = 150 ग्राम
  • शक्कर = लगभग 01 किलोग्राम अथवा आवश्यकतानुसार ।

सबसे पहले गिलोय से लेकर सफ़ेद मुसली तक सभी पांचो जड़ी-बूटियों को कूट-पीसकर महीन चूर्ण बना ले । अब इस चूर्ण को गाय के घृत में मंद-मंद आंच पर भुन ले । एक बर्तन में शक्कर की एक तार की चासनी तैयार कर ले । अब भूने हुए चूर्ण को इस चासनी में मिलाकर थोड़ी देर और पकाएं । जब योग गाढ़ा होने लगे तो इसे आंच से उतार कर ठंडा कर लें ।

ठंडे होने पर इससे एक – एक तोले के लड्डू बना ले । सर्दियों के मौसम में महीने दो महीने सुबह एवं शाम एक – एक लड्डू खाकर ऊपर से गाय का दूध पीने से धातु – दुर्बलता खत्म होकर शरीर पुष्ट बनता है । परिणामस्वरूप व्यक्ति में पौरुष शक्ति बढ़ती है एवं बुढापे के लक्षण कम होने लगते है ।

अन्य अपेक्षित संकलित उपाय:

01) बराबर मात्रा में सफेद प्याज का रस, शहद, अदरक का रस एवं घृत (घी) का मिश्रण तैयार कर लें। इसे २१ (इक्कीस) दिनों तक निरंतर खाने से गजब की पौरुष शक्ति प्राप्त हो जाती है ।

02) रात्रि काल में शयन पूर्व लहसुन की दो कलियां खा लें, फिर अल्प जलपान करें। शीघ्र ही संस्तर अथवा शैय्या (Bed) शक्ति प्राप्ति अनुभूति होना अवश्यम्भावी है ।

03) आंवले के चूर्ण में मिश्री को पीसकर मिला लें। रात्रि समय शयन से पहले इस पाउडर का एक चम्मच सेवन करें, तत्पश्चात थोड़ा-सा पानी पीएं, अपेक्षित शारीरिक पौरुष्य शक्ति की प्राप्ति होगी।
(आंवले का रस स्वाद तथा स्वस्थ्य से भरपूर है)।

04) केला पुरुष में शक्तिवर्धक फल है । यदि आप नित्य एक गिलास दूध के संग एक केला खाएंगे तो स्वयं को कभी दुर्बल नहीं समझेंगे, शक्तिवर्धक स्वास्थ्य का अनुभव करेंगे ।

05) छुई-मुई के बीजों का ०४ से ०५ ग्राम पाउडर एक गिलास दूध में मिलाकर शयन पूर्व ग्रहण (पीने) के पश्चात युवक स्वयं को ऊर्जावान होने का अनुभव करेंगे ।

06) दो चम्मच मेथी दाने के जूस में आधा चम्मच शहद मिलाकर नित्य रात्रि समय खाने से शरीर की पोटेंसी (शक्ति अथवा क्षमता) का वर्धन होता है ।

07) फिजिकल पोटेंसी (शारीरिक क्षमता) बढ़ाने के लिए कच्ची भिंडी चबाकर खाने के पश्चात रात्रि काल में भी इसका परिणाम बहुत ही प्रभावकारी होता है ।
(एक गिलास स्मूदी पीने से बच्चा पूरे दिन स्वस्थ रहता है उपाय करें)

08) पिज्जा, बर्गर जैसे जंक फूड भी शारीरिक कमजोरी के कारण हो सकते हैं । वहीं बहुत ज्यादा मात्रा में घी-दूध, मेवे-मिठाई खाना भी आयुर्वेद की दृष्टि से अच्छा नहीं है । इससे शरीर की ताकत क्षीण हो सकती है ।

09) अनावश्यक पिज़्ज़ा बर्गर, कोल्ड ड्रिंक्स, मसालेदार चिप्स, जैसे अन्य फ़ास्ट फ़ूड जैसे मैगी नूडल्स, चाउमिन इत्यादि अन्य उपभोज्य पदार्थों भी पौरुष दौर्बल्यता का कारण होते हैं ।

10) मसालेदार स्‍प्राउट्स खाने से भी पौरुष दौर्बल्यता होती है ।

11) शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिए तिल का तेल का प्रयोग रामबाण का कार्य करता है । यदि आधा कप तिल के तेल में बराबर सामान मात्रा में लौकी का जूस का मिश्रण कर लें, तथा रात्रि में शयन करने से पहले इस तेल के मिश्रण से सिर और शरीर पर मालिश करने पर युवकों को बहुत अधिक शक्ति प्राप्त होगी ।

12) स्प्राउट्स खाने से खून बढ़ता है । इसके नियमित सेवन से शारीरिक क्षमता का वर्धन होता है।
(सीक्रेट जापानी ड्रिंक्स से इससे एक महीने में कमोबेश १० (दस) किलो वजन तक घट सकता है ।)

13) जौ को पानी में भिगोकर, कूटकर, छिलका-रहित कर दूध में खीर जैसा पकाकर खाने से शरीर हृष्ट-पुष्ट होता है, ऐसा माना जाता रहा है ।

14) दालचीनी के ०२ ग्राम चूर्ण को २५० मिलीलीटर दूध में डालकर एक चम्मच शहद के साथ पीने से शरीर में शक्ति के साथ-साथ धातु में भी वृद्धि होती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *